CLOSE TO ME

My friends,
It feels good to have my own blog.....there are things which are close to my heart and things which have affected me one way or the other.....my thoughts,my desires,my aspirations,my fears my gods and my demons---you will find all of them here....I invite you to go through them and get a glimpse of my innermost feelings....................

Monday, February 13, 2012

दर्पण...

तुम्हारे न होने से ही
चटखता है मन में कुछ!
दर्पण क्या देखूं?
अपना चेहरा तो देख लेता था,
तुम्हारी आँखों में!
अब तुम नहीं,
तो खुद को देखने का मन भी नहीं!
गिर के चटख भी जाए दर्पण अब तो क्या?
तुम्हारे न होने के एहसास के सामने,
दर्पण के टूटने का गम नहीं!!!
February 13, 2012 at 4.33 P.M.
(inspired by Maya Mrig's status-----कुछ चटखता सा है.....नहीं तुम कहीं नहीं हो.....बच्‍चे हैं.....दर्पण गिरा दिया होगा.....)

2 comments:

  1. बहुत ही प्यारी और भावो को संजोये रचना......

    ReplyDelete