CLOSE TO ME

My friends,
It feels good to have my own blog.....there are things which are close to my heart and things which have affected me one way or the other.....my thoughts,my desires,my aspirations,my fears my gods and my demons---you will find all of them here....I invite you to go through them and get a glimpse of my innermost feelings....................

Tuesday, December 28, 2010

ख़ता

ख़ता हुई हम से,
आपके मिज़ाजे ख़राब का हाल नहीं पूछा!
माफ़ कर दीजेयेगा हमें!
गुनाहगार हैं आपके!
जो भी सज़ा देंगे,
मंज़ूर होगी,
सर झुका कर मान लेंगे!
ख़तावार हैं
अपनी ख़ता कबूल करते हैं!
नहीं चाहते की आप नाराज़ हो हमसे,
क्योंकि आपकी दोस्ती है हर शेह से प्यारी हमको!
December 28,2010 at 8.35P.M.

Open relationship

Being with you,
I felt comfrtably happy,
lovingly friendly,
affectionately warm.
Could talk about anything,
Loved everything.
Essence of an open relationship,
without labelling it,
without giving it a name,
we have true friendship.
Felt secure and warm,
knew can come to no harm.
Sitting with you was not weird,
but natural and real.
No pressure, no stigma,
no emotional block, no hang-up.
Tied down yet free,
bound yet independent.
Two friends, who have met by chance
yet that friendship life has enhanced.
Am grateful that you are my friend.
God bless you always.
Stay as you are.
Walk with me whenever you can
and lighten my load with your love and affection.
December 28, 2010 at 5.27 P.M.

Friday, December 24, 2010

बिक्री.......

सच्चाई बिकती है सरे बाज़ार
एक नहीं हज़ार बार
इन्सां जब अपनी पर उतर आता है
अपने हर इक झूठ से, इश्वर को शर्मसार करता है
बोली लगती है इन्सां के संसार में इश्वर की
टके भाव बिकती है इंसानियत भी
इंसान को ही नहीं आती शर्म बस
साड़ी क़ायनात शर्माती है उसकी करनी से हर वक़्त
बेच रहा है दीन-ओ-ईमां
हर पल, हर घड़ी
क्या पायेगा मालूम नहीं
बिकता चला जा रहा है पैसे की होड़ में
खुद को बेचता
हर इक को रोंद्ता
सब बिकाऊ है
बोली लगती रहेगी........
December 24, 2010 at 11.27 P.M.

Monday, December 13, 2010

अधूरी आस .......

काश ऐसा होता कि तेरी बन आती दुनिया में
शायद इसी जहाँ में स्वर्ग मिल जाता
मगर ऐसा हो न सका
अब ये ख्वाहिश है कि तेरी हो के रह जाऊं
शायद यह भी मुमकिन नहीं मेरे लिए
तेरे चंद लम्हों के दीदार से
आ जाती है जो चेहरे पे रौनक
कई दिन गुज़ार देते हैं हम
बस उसी रौनक का नज़ारा करते!!!!
December 13, 2010 at 11.41 P.M.

Tuesday, December 7, 2010

कान्हा का जन्म-दिन...

आज है कान्हा का जन्म-दिन

खुशियों से भरा है यह दिन

कान्हा आया आज इस दुनिया में

उद्धार हो गया लोगों का

मन में सबके लिए प्यार

कान्हा कहे बारम्बार

मैं तो राधे के रंग रंगा

मीरा के मन बसा

राधा बसी मेरे रोम-रोम

वो डोर तो मैं पतंग

दोनों इक दूजे के लिए

दोनों इक दूजे बिना अधूरे

कान्हा का तो जन्म ही हुआ है

राधा के लिए

राधा है तो कान्हा है

कान्हा है तो राधा

कान्हा के जन्म पर सबसे प्रसन्न है राधा

इस लिए देती कान्हा को बधाइयाँ

तुम हो

तुम रहोगे

सदा के लिए

सबके लिए

अपितु राधा के लिए

तुम विशेष रहोगे

क्योंकि राधा है तुम्हारा ही अंग

राधा तुम में समाई है

तुम राधा में

राधा की बधाई कबूल करो

हे कान्हा

तुम्हारे जन्म से ही है राधा का जन्म सफल!!
December 6, 2010 at 1. 03 A. M.
On Rakesh Mutha's birthday

Wednesday, December 1, 2010

Displaced people

Displaced people
Homeless
Rootless
Thrown from here to there
Blown by wind like husk
Weightless
Body-less
Soul-less
Crushed under the feet
Trying to survive
Nothing in sight
Looking
Searching
Merely existing......
December 1, 2010 at 7.53 A.M.

Sunday, November 21, 2010

गूँगे शब्द.....

कलम उठती है
शब्द नहीं बनते
शब्द बनते हैं
तो कागज़ पर अपनी तस्वीर नहीं छोड़ते
खामोश कलम
गूँगे शब्द
वीरान कागज़
मन के अन्दर का उफ़ान
बाहर आने कि तड़प में
और वेग पकड़ता
बहा ले जाएगा मुझे
अपने संग
मेरी पहचान ले अपने साथ
जाने किधर को निकल जाएगा
शब्द कहाँ से लाऊँ
जो आवाज़ दें इस उफ़ान को
शब्द...शब्द..शब्द...
November 21, 2010 at 11.23 P.M.

Saturday, November 13, 2010

aaj janam din hai tumhaara
khushiyaan ho apaar tumhaare jeewan mein
hanste raho sada tum
gam cho bhi na jaaye tumhe
pariwar ke saath manao aaj ka din
dua karte hain yahi
sukhi raho
khush raho
aur manate raho janam din
apne pyar karne waalon ke saath!!!!
November 13, 2010 at 11.43 A.M.
on Arpna Gill's birthday

Saturday, November 6, 2010

A Friend's Birthday

Older by a year yet wiser
Hair growing grey
yet ageing gracefully
in the process
accumulating friends' blessings and good will
Blessed are the parents who brought you into this world
your birthday is a day of celebration
so here is a wish full of heart-felt emotion
God bless you always
May you have many more years to celebrate
years full of love,affection,blessings and cheer
years full of good health
and lots of wealth
may life be good to you ever
with the love of all who are dear.
Live healthy and live good
these are the the wishes,true and good.
November 6, 2010 at 9.27 P.M.
on JJ's birthday

Thursday, October 28, 2010

ज़हरीले आँसूं.......

पलकों के बादलों के पीछे छिपे आँसू
बाहर निकलने को बेकरार
कितने टूटे सपनों को
अपनी कोख में छिपाए
दर्द को भीतर समेटे हुए
उनके अन्दर कि चीख कोई सुन पा रहा है क्या?
असहाय हैं वो आँसू
बाहर नहीं निकल पा रहे
असहायता का नाग
फ़न उठाए
भीतर ही सारा ज़हर
उगलता जा रहा है
और, और ज़हरीली हो रही है काया
नीली पड़ती
स्वयं में घुलती
दम तोडती
इन आँसुयों को पी
मिटती, खिन-खिन होती
इक दिन ख़तम हो जायेगी
और मिट जायेंगे ये ज़हरीले आँसूं
छोड़ देंगे उसे
जिस के अन्दर दफ़न हैं
अपने सारे ज़हर के साथ....
October 28, 2010 at 2.32 P.M.

Saturday, October 23, 2010

Walking......

Those who walked beside/with me,
those who gave their love,
those who did not walk beside/with me,
those who showered their hatred on me,
the head bows before all of them.
Each gave what they had.
Each helped me understand the world,
and myself a little better.
I am forever grateful to them all
for enriching my life
and making everything worthwhile.
October 23, 2010 at 11.22 P.M.

Friday, October 22, 2010

यारी....

दोस्त की दोस्ती है तो सब
दोस्त की दोस्ती में रब
दोस्त की दोस्ती में जहाँ
दोस्त की दोस्ती पे कुरबां
तुम जैसे दोस्त मिले
दिल में कई फूल खिले
सच्चे दोस्त मिलें तो जन्नत
यही ईशवर की सब से बड़ी रहमत!!!
October 22, 2010 at 10.01 P.M.

Wednesday, October 20, 2010

जब तुमसे प्रेम हुआ,
तो मैं मैं नहीं रही!
मैं तो तुम में विलीन हो,
तुम में समा गयी!
जैसे सरिता समा जाती है समुद्र में,
जैसे खुशबू समाई है
फूल में
जैसे दिल में धड़कन
मैं तुम हो गयी
और तुम्हारे वजूद में
मेरा वजूद मिल एक हो गया
सदा के लिए फिर तुमसे कैसा झगडा?
तुमसे कैसे लड़ाई?
तुम मेरे हो
और मैं तुम्हारी
जैसे कान्हा की मीरा
अब दोनों में कोई दूसरा नहीं
अब दोनों एक हैं....
October 20, 2010 at 11.50 P.M.

Friday, October 15, 2010

The Scream

The scream kept reverberating in her head. She could not shake it out of her head. She closed her eyes tightly, put her hands on her ears. It was still there, resounding in her head, like the blast of funeral trumpets. She did not want to hear that scream. Yet, she was helpless. It was with her through every waking moment. It was part of every nightmare she had. It had entered her very being. It was coursing through her veins with blood. It was in every breath she took.

Roshni woke up with a start. Her palms were sweaty. Her heart was pounding. Her pulse was racing. Beads of sweat covered her forehead. She could see Neela standing before her. With a trembling hand, she switched on the bedside lamp, certain that Neela would be standing at the foot of the bed. In the light of the lamp, she could see no one. The shadow made by the lamp had an eerie quality to it. It lighted only part of the room. The rest of the room was in darkness. The silence was deafening.

Shaky legs hit the firm floor. Some confidence was restored. Roshni walked out towards the kitchen all the while overlooking her shoulder. She knew that she was alone. Yet, she could feel Neela's eyes boring into her back. She poured herself a glass of cold water and gulped it down too fast. She almost gagged. Coughing out the water which had entered her lungs, Roshni wiped the tears coursing down her cheeks. She knew she had to do something. She could not survive like this. She had to go back and find out the truth. She had to exorcise this screaming demon or else she was certain to occupy the room next to Neela.

Climbing up the stairs, the wrought iron Bannister appeared to scorch her hand. Roshni pulled her hand away with a start. The Bannister was the same. In fact, nothing in the house looked unusual. "Come on Roshni," she berated herself mentally. "Get a grip on yourself girl. You are alone, as you always have been. There is no one in the house. It is all in your head. Shake everything out. Be brave, girl. Act normal, Roshni." The words infused some confidence in her. From the medicine cabinet, she took out two Valium 5 mg, popped them in her mouth and gulped them down with the glass of water she had brought from the kitchen. Lying down on the bed, she started counting sheep jumping over the hedge. She had barely counted thirty-four when her eyes began to droop and she fell into a dreamless sleep.

A piercing shriek woke her. Roshni got up with a start. Disoriented, she looked around. She was alone. The light of the sun was sieving into the room through the net curtains. The dust particles were dancing in the sunlight as if happy to be alive. What a contrast! This was the emotion farthest from Roshni's mind. She looked at the source of the shriek. It was the alarm clock. She put out the alarm. The events of the night came flooding back. A sudden chill ran down her spine because everything appeared so fresh. She could vividly see Neela's face, her empty. lifeless eyes boring into her soul. She knew she had to get to the bottom of this.

Calling in sick to the office, she drove towards the hospital where she had first come across Neela. As she parked her car, she looked at the imposing name: Institute for the Mentally Challenged and Asylum for the Mentally Troubled. It burnt her soul. Yes, she had seen Neela in a 'mental hospital,' as it was commonly called by the people. "Strange," she thought to herself, "the name does not mention rehabilitation. Do such people never get rehabilitated?" With trepidation, Roshni walked inside.

The pungent smell of formaldehyde burnt the nostrils. The thick silence could be cut through with a knife. The echo of her own footsteps had a strange effect on her nerves. Despite wanting to, she could not walk fast. A sigh of relief escaped her lips when she saw Dr. Rohit Khanna's name plate on the door in front of her. She knocked. "Who is it?" came the query from inside. Opening the door an inch, she said, "Its me, doctor, Roshni Dev."

"Please come in Roshni."

Shaking hand with her, Dr. Khanna said, "Do sit down. What brings you to this side of the town so early in the morning? Your palm is sweaty. What is the matter? Are you alright?"

"I could not sleep last night. In fact, I have not been able to sleep properly ever since I saw Neela for the first time. Her scream keeps ringing in my ears. It is not going out of my head."

"Oh!" The doctor seemed lost in thought.

Roshni worked for an NGO, Trishna. Her NGO was looking into the living conditions of Institutes where mentally challenged and traumatized people were being treated. IMCAMT had been assigned to her. All kinds of patients resided here. Some suffered from mental illnesses while some were challenged. None had had an impact on her as had the eight-year-old Neela. The frail frame, clad in a frock, the almost shaven head, tiny thin fingers with chipped nails and the empty, lifeless eyes; all had left an indelible mark on Roshni. Neela was tall for her age. She could easily have passed for a ten-year-old. Yet, there was no innocence of an adolescent on her face.

Shaking her head, Roshni said, "Doctor, please tell me about Neela. I want to know. Have to lay my demons to rest."

"You talk about your demons. You can not fathom the demons that reside within Neela."

"I beg you to tell me."

"I can only tell you what is there in her files. Neela comes from a small village area near Delhi. I can not tell you the name of the village. Professional ethics forbid me to do so," said Dr. Khanna.

"I will not ask you to disclose the name."

Roshni's heart started to beat fast. Time had come for her to know Neela's story.She could hardly wait. She waited with baited breath for Dr. Khanna to continue.

"Neela lived with her parents and two siblings, an elder sister and a younger brother. Her father ran a grocery shop and her mother was a seamstress. They lived a comfortable life, not grand but reasonably good. All three children went to the nearby primary school. Neela was studying in Class III when this unfortunate incident happened," sighed the doctor.

"Which incident?" Roshni's heart was in her mouth as she asked.

"Well, the village, where they lived, was raided by members of a notorious gang. They looted many houses and murdered a number of people. Ram Avtar, Neela's father, was witness to this looting,arson, rape and murder. Being the upright man he was, he decided to lodge a complaint against the perpetrators of these crimes."

"It is sounding like the plot for a second-rate Hindi movie," Roshni said disappointingly.

"So it is but in this case there is no happy ending."

"Looking at Neela I can believe that to be true. What happened after Ram Avtar lodged the complaint?" asked Roshni.

"The goons came to Ram Avtar's house. They tied him and his son to a pole. In front of their eyes, all eight of them took turns in raping his wife and his elder daughter, who was fourteen at that time.The young girl's body could not take the trauma of such physical abuse. After the initial assault she began to bleed and continued to hemorrhage through the subsequent assaults. Right before their eyes, Reena bled to death."

"Oh my God! Oh my God! How could they? The animals! The beasts!" wailed Roshni.

"The attackers then pulled Neela's mother by her hair and brought her in the center of the room where both Ram Avtar and his son could watch the heinous act clearly. They assaulted her body again and again, one by one, together. Having had their fill, they butchered her battered body with knives," Rohit's voice was shaking now.

Tears were streaming down Roshni's eyes. She could not move. Her body had turned to stone. Her beating heart was the only indication that she was alive. Her benumbed senses could barely feel the glass of water Dr. Khanna thrust into hand.

"Drink up Roshni, drink up," he said.

Roshni almost choked. She coughed. She almost threw out the water she had sipped. She was surprised how it had managed to stay down in her stomach. She looked up at Rohit. He was pained to see so much hurt in her eyes.

"We will talk about this some other time, Roshni. I am writing a tranquilizer for you. It will help to calm your frayed nerves. Buy these tablets on your way home and take one before going off to sleep. It will do you good," Rohit said sympathetically.

"No, I want to know everything. Please doctor, tell me the rest of it," pleaded a very tearful Roshni.

"If you insist. Having satisfied their lust with the mother and young Reena, they turned to the young boy. They sodomized Rahul till the six-year-old also succumbed to death."

"The bastards! The sons of bitches! Blots on the name of mankind! Weak creatures who could only feel powerful through these inhuman acts!" Abuses rattled out of Roshni's mouth. She seemed possessed. Rohit was certain that she would have torn the man apart there and then, with her bare hands, had any of the rapists come before her. A fire, to take revenge, fueled by anger and revulsion, was burning within her.

There was no turning back. She had to know it all now.

"What did they do with Ram Avtar and little Neela?" asked Roshni timidly.

"They shaved off Neela's head, tore her frock to shreds and killed Ram Avtar before her eyes," Rohit said haltingly.

"Oh God, no! Oh God! Oh my God!" Roshni could only whimper.

"Let me take you to Neela's room. You had seen her from a distance.Let me show you what this has done to her fragile brain. You will witness for yourself the extent of trauma she has gone through and is still going through," Rohit said.

As she walked beside Rohit towards Neela's room, she couldn't help but notice the solemn expression on his face. An unbridled rage burnt inside him, ready to erupt like a volcano at the first given opportunity. Unbeknown to herself, her left hand reached out and held Rohit's right hand. Rohit merely squeezed her hand at first and then held on to it tightly.

"Brace yourself Roshni; for what you are about to witness now may never give you a moment of peace afterwards."

The moment Dr. Rohit Khanna opened the door, Neela began to scream. With every instance the screams grew louder. Then, suddenly, they stopped altogether. Lifeless eyes looking at them, Neela began to tear her frock. Roshni wanted to stop her but Rohit would not let go of her hand. As the frock lay in shreds around her, Neela took off her panty and lay naked on the bed with her legs spread.

Roshni was too shocked to move. Unstoppable tears rolled down her cheeks. Rohit had to drag her out of the room. Two women attendants moved into the room to clothe Neela. The pain on Rohit's face was reflected in the eyes of Roshni.

Rohit said in a pained voice,"The extent of her trauma is such that every time she sees a man in her room, she tears her dress and takes off her her undergarment."

Roshni was not listening. Walking towards her car she knew that The Scream would always remain with her. This was one demon which would never be exorcised.
October 7, 2010 at Pune.

खोज.........

वक़्त चलता रहा और सोचता रहा इंसान। 
कौन हूँ मैं,
कहाँ से आया हूँ,
और कहाँ जाना है मुझे?
वक़्त चलता रहा और सोचता रहा इंसान।

बचपन आया और गया खेल-कूद में,
जवानी को घेरा रंगीन मस्तियों ने,
झुक गयी कमर जब बोझे ज़िंदगी से,   
घबरा कर भूल गया वो अपना ईमां
वक़्त चलता रहा और सोचता रहा इंसान। 

दिल ने कोसा फिर एक दिन,
कब तक रहोगे भटकते।
आने लगी है ज़िंदगी की शाम।
कौन हो तुम, कहाँ जान है तुझे?
वक़्त चलता रहा और सोचता रहा इंसान। 

दूर से फिर इक आई आवाज़,
हिम्मत करो, और सोचो, और सोचो।
मिलेगा ज़रूर तुझे इक दिन जवाब।
इसी सोच में है तेरी खोज।

वक़्त चलता रहा और सोचता रहा इंसान। 
कौन हूँ मैं,
कहाँ से आया हूँ,
और कहाँ जाना है मुझे?
वक़्त चलता रहा और सोचता रहा इंसान।

Saturday, October 9, 2010

मेरी भाषा के लोग....

मेरी भाषा के लोग,
मुझ जैसा सोच,
मेरी बोली बोलते हैं!
फिर क्यों एक-दूसरे की बात,
हमें समझ नहीं आती?
क्यों मेरे अन्दर की आज़ादी
पंख फडफडा
क्षत-विक्षत हो रही है?
बाहर तो बचेगी नहीं,
भीतर पिंजरे की सलाखों में
दम तोड़ रही है!
सब मुझ जैसे हैं
और मुझ जैसे ही लगते हैं
फिर भी मुझ से नहीं!
पैसे की खनक पर,
रुपये की थाप पर,
सब नाच रहे हैं!
ऐसे भोतिकवाद समाज में
मेरी आज़ादी का क्या मोल?
यह चिड़िया तो भीतर ही दम तोड़ेगी
चाहे मेरी ही भाषा बोलें मेरे लोग....
October 9, 2010 at 11.06 P.M.

Wednesday, October 6, 2010

ईशवर बिक रहा है--बोली लगाओ.....part II

मंदिर के बाहर भगवन को बेच दिया
अल्लाह की बोली लगी मस्जिद के पास
वाहेगुरु का घर आतंकियों ने अन्दर से खोखला कर दिया
ईसा के नाम पर लड़ रहे हैं जीउ और फिलिस्तीनी
इन्सां से अच्छे तो परिंदे हैं
कभी मंदिर पे जा बैठे
कभी मस्जिद पर घोंसला बना लिया
गुरूद्वारे, गिरजा में फर्क नहीं उनके लिए
इन्सां ने फर्क की दिवार खड़ी कर
सब अस्त-व्यस्त कर दिया
लहू-लुहान है धरती
अंधकारमय है आसमान
लाल कालिख में खो गया है कहीं
अपने ज़हरीले दांत ख़ुद में गाड़ता
ज़ख़्मी जिस्म
चाक जिगर
तार-तार है पैरहन
काटों में उलझी आत्मा
कहाँ ढूंढें पनाह
नज़रे-कर्म हो ग़र ख़ुद पर
तो धरती भी स्वर्ग हो जाए
और ईशवर बैकुंठ जा न बैठें!!!
October 6, 2010 at 9.48 P.M.

ईशवर बिक रहा है--बोली लगाओ....

मेरा रब तो मेरे अन्दर था
जिसे मैं पूजता था!
पता नहीं कब बाहर आ
सौदा बन गया?
बाज़ार में टके भाव बिकने लगा!
इंसानों की मंडी में
बोली लगने लगी उसकी!
जितना बड़ा रुतबा
उतनी बड़ी बोली!!
अब मेरा रब भी सोचता है:
क्यों न इस दुनिया को छोड़
वापिस बैकुंठ आ जाऊं?
शायद इंसान की खरीदो-फरोख्त से
निकल अपना अस्तित्व वापिस पा पाऊं!!!
October 6, 2010 at 5.42 P.M.

ईशवर बिक रहा है--बोली लगाओ....

मेरा रब तो मेरे अन्दर था
जिसे मैं पूजता था!
पता नहीं कब बाहर आ
सौदा बन गया?
बाज़ार में टके भाव बिकने लगा!
इंसानों की मंडी में
बोली लगने लगी उसकी!
जितना बड़ा रुतबा
उतनी बड़ी बोली!!
अब मेरा रब भी सोचता है:
क्यों न इस दुनिया को छोड़
वापिस बैकुंठ आ जाऊं?
शायद इंसान की खरीदो-फरोख्त से
निकल अपना अस्तित्व वापिस पा पाऊं!!!
October 6, 2010 at 5.42 P.M.

Monday, October 4, 2010

अंधे-बहरों का शहर.....

सबको दिल की बात बताना कहाँ मुमकिन होता है
ये फ़साना सब को बयाँ नहीं किया जाता
अंधे-बहरों के शहर में
सब दिल की बात कहाँ समझते हैं
सुन कतरा निकल जाते हैं
किसको दिल की गहराईयों का इल्म है
परतों में क्या छुपा है
कौन जानता है
क्या बताएँ दिल की बात को
कोई हम-ज़ुबां, हम-नफ्ज़, हम-लफ्ज़ तो मिले!!!!
October 4, 2010 at 8.52 A.M.

Sunday, October 3, 2010

यह सुन्दर वाटिका भी आज निशब्द है....

लंबी चिमनी
सियाह कालिख से लथ-पथ
अपनी नाभि में दाँत गढ़ाए
काला धुंआ उगलती
जलती
धरती को जलाती,
नब्ज़ मंद होती,
सांस लेने को तरसती
चाँद भी धुंधला पड़ गया है
सितारे साथ छोड़ गए हैं
हवा का चेहरा मुरझाया सा है
शीशे में अपने अक्स को देखने को कतराता
बादल से खून के आँसूं क्यों बह रहे हैं?
सिक्कों की खनक बारम्बार
कोयल के गीत को दबा रही है
पक्षियों की चहचहाहट मौन है
पोधों के चेहरों पर हँसी नहीं है
यह सुन्दर वाटिका भी आज निशब्द है....
October 3, 2010 at 10.50 P.M.
translated an English poem into Hindi

बे-रंग है जुबां .........

मन में छिपा डर है
कहीं कोई रुसवा न हो जाए
नाप-टोल कर हर बात कहता हूँ
कहीं किसी का दिल न टूट जाए
मंदिर, मस्जिद, गुरूद्वारे के फेर में
ऐसा फसा हूँ
कि अपनी स्वाभाविकता
ही भूल चूका हूँ
रंग तो जैसे सब फीके पड़ चुके हैं
बे-रंग है जीवन
और उस से बे-रंग है जुबां
शायरी किसी कोने में पड़ी
सिसकियाँ ले रही है
अब तो बस जुबां हिला
बात करता हूँ
वरना शब्द तो जाने कहाँ खो गए हैं!!!!!
October3, 2010 at 9.41 A.M.

Saturday, October 2, 2010

लाल ग़र होता.......

'लाल' ग़र आज होता
हमारे देश में
राजनीतज्ञों का यूँ अकाल न होता
हम भी सर उठा कह पाते
'हमने चुना है इस नेता को
बागडोर दी है देश की इसके हाथ में
यकीं है हमें इसकी इमानदारी पर
इसी लिए है ये सबसे बड़ी पदवी पर
इस जैसा और नहीं
यही है सब से सही
तभी है ये देश का नेता
हमारे भारत का बेटा
ये देश को आगे ले जाएगा
चाहे इसका सब लुट जाएगा'!
है 'लाल' तो देश है
'लाल' नहीं तो बिक रहा है देश
अरे जाओ कोई तो 'लाल' लाओ
और देश को इन हरामखोरों से बचाओ!!!!
October 2, 2010 at 10.52 P.M.

Friday, October 1, 2010

जर्जर हो चुकी धरती......

चारों और धुआं ही धुआं है
कुछ सुझाई नहीं देता
हाथ को नहीं पहचानता
एक काट रहा है
एक चीर कर साफ़ निकाल जाता है
काला गहरा धुंआ
परिंदों की चीत्कार
नदियों की पुकार
कोई सुन रहा है क्या?
अरे, देखो
वो एक पेड़
पड़ा है धरती पर
अब तो केवल ठूंठ ही बचा है
जड़ें तो कब की सूख चुकीं
धरती जर्जर हो चुकी
आसमान सफ़ेद हो चला
इंसान अभी भी सोया है
कुभ्करण की नींद
उठेगा तो कुछ नहीं बचेगा
शायद अभी जाग जाए
शायद धुंआ छट जाए!!!!
October 1, 2010 at 4.04 P.M.

Thursday, September 30, 2010

bourgeois हो या proletariat
rahoge to insaan hi
proletariat ko to insaan nahin samjhta bourgeois
sochta hai gulaam hai uska wo
apne joote ki nok par rakhta hai proletariat ko
...par proletariat ke bina to sansar nahin chal sakta
aap bourgeois ho ke bhi nahin ho
apni 60 ki raftaar mein bhi
aadmi-aadmi ka fark nahin bhule
aapse bourgeois ki kya fajihat
jisne pyar kiya insaan ko insaan ki tarah....
September 30, 2010 at 10.43 P.M.

Monday, September 27, 2010

इर्ष्या है मगर मुझको बहुत उससे.........

मेरे अलावा भी बहुत सारे हैं दोस्त उसके
बहुत हैं जिनसे रिश्ता है जैसा मुझसे नहीं
खुश हूँ इर्ष्या है मगर मुझको बहुत उससे
मुझे मिला एक दोस्त वो जिसके है बहुत दोस्त
सब के लिए है समय उसके पास
बस मेरे लिए ही नहीं
गर ऐसा ही रिश्ता था निभाना उसको
क्यों कर आया वो मेरी ज़िन्दगी में
दूर रहता,नज़दीक नहीं आता
मन को बहला लेता यह कह
कि वो जहाँ है खुश रहे
नहीं है मेरी दुनिया में तो क्या हुआ
आबाद रहे उनकी दुनिया जिनके संग वो मुस्कुराता है!!!!
September 27,2010 at 8.35 A.M.

Sunday, September 26, 2010

Floundering

Along life's road,
came someone.
Said he knew me,
from my childhood.
He could recall me vividly
while I was floundering.
Could neither place nor recall
him from Time's fall.
He poured his heart out,
shared his secrets,
hidden in the deep recesses of his mind.
He was scared and vulnerable too,
yet was ready to go with the flow.
Suddenly he closed his heart to me!
The heart which he said I had stormed!
Now I suffer the pangs of separation.
As if the umbilical cord has been severed too harshly.
The endless wait continues.
No message comes.
The brief period of sharing is already gone.
Time is passing by.
Is it the passing of the Time?
Or have I passed by his life?
Questions, questions and questions!!!
No answer.
Once again I am floundering,
this Time for lack of sharing.
Maybe a new dawn tomorrow,
which will lift this sorrow.
Now I pass Time in the hope
that he will once again share
what was so precious for him
and so special for me.
September 26,2010 at 1.45 P.M.

पता

मैं रब्ब=रब्ब करदी,रब्ब नू लबदी फिरदी!
न मिलेया ओह मंदिर, न गुरूद्वारे, न मसीत-ए!
रब्ब मिलेया माँ दे दुलार च,
पिता दे प्यार च,
हम-लफ्ज़, हम-ज़बां ,हम-सोच दे साथ च!
ओह मिलेया मेरे बच्चे दी मुस्कान च!
ते मिलेया मेरे अन्दर इक अँधेरे कोने च!
दुब्केया बैठा,
बाहर निकलन तों डरदा!
जदों मैं पुछेया,
ते रब्ब ने हौले जीहा केहा,
"मैं तां हर उस जगह वसदा हाँ
जिथे प्यार है!
मैं तेरे अन्दर डरेया बैठा
के बाहर नफरत दी आँधी च,
लोग झुलस रये ने!
मेरा पता हर इन्सां नू
उस दिन मिल जाएगा,
जिस दिन ओ आपणी 'मैं' नू छड
बस मेरे बन्देयाँ नाल प्यार करेगा"!!!!
September 26, 2010 at 10.16 A.M.

Friday, September 24, 2010

मैं हूँ

मैं तो हूँ ही
सदा
दिल में धड़कन की तरह
जिस्म में साँसों की तरह
शरीर में आत्मा की तरह
मुझ से आत्मा तृप्त हो
मुझ में ही विलीन हो जाती है
मैं हूँ
मेरा एहसास है
और मेरे होने के एहसास में ही जीवन है!!!
September 23, 2010 at 11.57 P.M.

Tuesday, September 21, 2010

The green grassy road

The green grassy road
Leading to the home
Home is where the hearth is
Hearth is where warmth is
Warmth lies in the eyes of my loved one
...The doe-like eyes are full of love
Love is for me aplenty
Plenty are the blessings of God
Blessings come through warmth
Warmth lies in the eyes of my loved one!!!!
September 21, 2010 at 12.46 A.M.

Sunday, September 19, 2010

जो आया है
वो इक दिन जाएगा भी
जिस ईशवर की गोद से आया है
उसकी गोद में जाएगा भी
जिस परम अभिभावक ने उसे धरती पर भेजा है
...उसी के पास सदा के लिए जा रहेगा भी
मौत तो आनी है, निशचित है
तो फिर मौत से कैसा भय
मौत तो मिलवाएगी
उस पिता से
जिस ने दिया है जन्म!!!!
September 19, 2010 at 11.36 A.M.

Wednesday, September 15, 2010

God made man in His own image,
man defiled that image.
God wanted him to be humble and kind,
man had other things in his mind.
God fulfilled all his needs and desires,
man threw all his goodness in hell's fires.
God thought that man would learn from his mistakes,
man merely continued to increase the stakes.
God had created man as a wonder,
he turned into a monster.
God felt that man would stop his brutality,
there was no end to man's temerity.
Wonder when man would open his eyes,
and see the beauty of the limitless skies?
Wonder when man would realize,
that nothing but goodness survives?
........
Halt man!Put an end to your cruelties!
Or,nothing would be left for revelries!!!!!
September 15, 2010 at 9.45 P.M.

Thursday, September 2, 2010

तमाम उम्र ढूँढती रही आब-ए-हयात को
वक़्त आया तो प्यासे ही जाना पड़ा!!!
September 02,2010 at 8.51 A.M.

Sunday, August 29, 2010

शून्य

शून्य से उत्पन हो
शून्य में ही विलीन हो जाना है !
शून्य में सब है!
आनंद भी,
और शून्य की चीत्कार भी!
शून्य भीतर भी है
और बाहर भी!
शून्य निराकार का
आकार भी,
जो देता है जीवन!!!
August 29, 2010 at 11.54 A.M.

Saturday, August 28, 2010

तेरी खुशबू से महकता है संसार
तेरी मोहब्बत के एहसास में सरोबर
तेरी छाया से भी करते हैं प्यार!!!
August 28,2010 at 11.42 A.M.
जीवन के रंगमंच पर
हम सब अपना-अपना
नाटक प्रस्तुत करते हैं!
किसी के लिए पर्दा गिरता है
और किसी के लिए उठता है!
इक दिन सब चले जायेंगे
बस खाली रंगमंच रह जाएगा!
August 28, 2010 at 10.55 A.M.
समय के रास्ते
सिवाए फिसलती रेत के
हाथ में कुछ न आया!
आँखें खुलीं हुयीं जब बंद
तो रेत भी निकल गयी
सिवाए एहसास के कुछ न रहा!
August 28,2010 at 10.49 A.M.

Thursday, August 26, 2010

kitne mein

mere bhiter

aur kitne baahir

goomte sur uthaye

bhiter ka main jeene nahi deta

bahir kaa mein

tikne nahi deta

esi uhapoh mein

mathta jaata jeevan

kitne vikar chod jaata
कितने 'मैं' मेरे भीतर
और उतने ही बाहर!
भीतर का 'मैं' जीने नहीं देता!
बाहर का 'मैं' कुछ करने नहीं देता!
इसी सोच में निकल जाएगा जीवन,
और कुछ सुलझ नहीं पाएगा!
दोनों का समावेश
सुलझाएगा
बाहर और भीतर के अंतर्द्वँव को,
और जीवन के ताने-बाने को
करेगा सार्थक!!
August 26,2010 at 6.23 P.M.
एक दूसरे का हाथ थामे,
यूँ ही साथ-साथ चलते,
सफ़र कट जाता है!
मंजिल और करीब आ जाती है,
जब अपना कोई साथ निभाता है!
August 26, 2010 at 5.36 P.M.

Saturday, August 21, 2010

सफ़ेद-पोशी

मैं क्यों कपडे पहनता?
मैं किस से क्या छिपाता?
मेरे भीतर जो है,
वो बाहर नहीं!
भीतर की सब बातें,
यदि बाहर आयें तो,
एक विवाद उठ खड़ा होगा!
भीतर छिपे राक्षस
बाहर आ उत्पात मचाएँ तो?
धरती लहू-लुहान हो जायेगी!
आसमान चीत्कार कर उठेगा!
मेरे अंतर्मन के द्वंद्व को,
कौन समझ पायेगा?
रहने दो इसे मेरे भीतर ही,
इसे बाहर मत आने दो!
ढका रहने दो इसे बाहरी कपड़ों से!
कुछ तो सफ़ेद-पोशी बनी रहने दो!
जो छिपा है उसे छिपा ही रहने दो!
मत छेड़ो,इसे भीतर ही रहने दो!!!!
August 21, 2010 at 6.52 P.M.

Friday, August 20, 2010

आसमान की बुलुंद ऊँचाइयों में
बिना रोक-टोक के
स्वछन्द विचरता मन
आसमान के विस्तार को निहारता
पँखों के सहारे
यहाँ से वहाँ
आज़ाद घूमता
अपने आप में सोचता है--
ऐसी आज़ादी धरती पर क्यों नहीं?
क्यों बेड़ियों में
जकड़ा हूँ मैं?
क्यों नहीं कर सकता
स्वेच्छा से मैं
वो सब जो करना चाहता हूँ?
क्यों बंधन हैं सिर्फ मेरे लिए?
मैं नहीं मानना चाहता
इन बंधनों को!
मैं निकल कर इन जंजीरों से
यूँ ही स्वछन्द घूमना चाहता हूँ
खुले आकाश की तरह धरती पर!
August 20,2010 at 2.35 P.M.

Tuesday, August 17, 2010

मित्र अगर सच्चा है तो उससे कुट्टी कैसी?
सच्चा मित्र तो वो
जो तुम्हारी चुप्पी के पीछे छिपे
शब्दों को समझ
तुम्हे वो आज़ादी दे
जिसकी तुम्हारी मित्रता हक़दार है!!!!
August 17, 2010 at 11.42 P.M.
जो न देखूं तो जिया न माने
दुःख के भँवर में खाए हिचकोले
उसे क्या पता कि उसे देखने भर से
आ जाती है चेहरे पर रौनक
और वो हैं कि कहते हैं
या ख़ुदा हमें नज़र भर उठा भी न देखिये
कहीं रुसवा न हो जाएँ हम
दुनिया कि नज़रों में!!!
August 17, 2010 at 11.29 P.M.
प्यार के बंधन में बंध
इक दूसरे के साथ
जीवन के सफ़र पर
दो रही साथ-साथ चलते हैं
और चलते-चलते
इक दूसरे में समाँ जाते हैं
कुछ इस तरह कि
मैं मैं नहीं
और तू तू नहीं!
August 17, 2010 at 10.12 P.M.

Friday, August 6, 2010

लफ्ज़

रोज़ लफ़्ज़ों की इमारत बनाता हूँ
फिर उसमें साँसें फूँक उसे जिंदा करता हूँ
काली रात के अँधेरे में
वो डह जाती है
दिल-ए-नादाँ को समझाता हूँ
संभल जा,मान जा
पर दिल है कि संभलता ही नहीं
और अगले दिन फिर से लफ़्ज़ों की इमारत बनाता हूँ!!!!
August 06, 2010 at 12.16 A.M.

Monday, August 2, 2010

बादल के रुई जिस्म को चीर कर,
सूरज की पहली किरण बाहर आई है!
इक नई सुबह का पैग़ाम अपने साथ लाई है!
नई कोम्प्लें फूटी हैं,
जो नए जीवन का आश्वासन देती हैं!
कैसे कहें कि सूरज की किरण ज़ालिम है?
वो तो जीवन को धरती की कोख से अंकुरित कर
कांपते,लरज़ते होठों को मुस्कान देती है!
August 2, 2010 at 1.35 P.M.

Sunday, August 1, 2010

मिट्टी चों निकलें हाँ,
इक दिन मिट्टी हो जाणा है!
ऐवें पये मेरा-मेरा करदे हाँ,
सब ऐथे ही रह जाणा है!
हीरे-मोती,सोने-चांदी दा आडंबर क्यों?
सिकंदर वी खाली हाथ चला गया!
ऐवें न इतरा मेरे दोस्त,
सब मिट्टी हो नाल न कुछ जाणा है!!!
August 1, 2010 at 4.50 P.M.
दुनिया ने ताँ आपणा मतलब साधना,
दुनिया नू किसे दे हंजुआं नाल की!
धोखा करना ते कर के भूल जाणा,
ताँ फ़ितरत है दुनिया दी!
आपणे आप नू आप ही समेटना पैना,
दुनिया नू की फ़रक पैना
तेरे बिखर जाणे दी!!
August 1, 2010 at 4.35 P.M.

Saturday, July 31, 2010

तुझे छू के जो हवा आई है,
तेरे होने का पता देती है!
पत्तों की सरसराहट में,
तेरी आवाज़ सुनाई देती है!
गुलाब की पखुडियों में से,
तेरी खुशबू आती है!
तू है फिर भी तू नहीं!
तुझे महसूस कर सकता हूँ,
पर देख नहीं सकता!
तुझे सुन सकता हूँ,
पर छू नहीं सकता!
अंधियारे गलियारे में
तुझे देखने की कोशिश कर रहा हूँ!
तेरी साँस की गर्मी से
तुझे अपने करीब पाता हूँ!
डरता हूँ कि खो न जाऊं
तेरी गहराईयों में!
उलझ कर रह जाउँगा तेरे वजूद में!
और फिर बिन डोर की पतंग सा
भटकता फिरूँगा यहाँ से वहाँ!
कोई मंजिल नहीं होगी
न कोई साथी न कारवाँ!
बस यूँ मारा-मारा
तेरे अस्तित्व में खोया
खुद को भी भूला बैठूँगा!
सोचता हूँ अपने आप में,
क्यों न दूर रहूँ तुझ से!
शायद कुछ अपना बचा पाऊं मैं!
पर तू नहीं है ग़र मेरी ज़िन्दगी में,
तो क्या बचाना चाहता हूँ मैं?
July 31, 2010 at 9.10 P.M.

Sunday, July 25, 2010

naseeb tera bhi hai,naseeb mera bhi hai
main tu nahin ban sakta,tu main nahin ho sakta
to naseeb se kaisa gila-shikwa
naseeb to naseeb hai
jo mera hai woh mera hi rahega
aur tera naseeb mera ho nahin sakta!!!!!
February 26, 2010 at 8:58pm
dil ki mehfil mein naseeb yoon aazmaaya nahin karte
dilon ke maamle naseeb se suljhaaya nahin karte
dil to dil hai woh kiski sunta hai
dil ki baat ke beech naseeb ko laaya nahin karte---
February 26, 2010 at 8:59pm
Love whole-heartedly, give unconditionally
when such a love becomes a part of one's life
it becomes enriched and worthwhile
the love of the other comforts
one does not have to make the efforts
the love is true and ever-lasting
the comfort is there for the asking
the camraderie between the two can not be denied
friendship tested and tried
the desire to be with the loved one is paramount
all difficulties they can surmount
it is only when the two are not together
that they do not feel better
the ease of the exchange is missed
the snakes of separation have hissed
life becomes meaningless
everything is worthless
only THE FRIEND can alleviate the pain
as FRIENDSHIP is the bane
for all those lttle things
which could only be shared with THE FRIEND.
February 28, 2010 at 10:51pm
मैं माटी का पुतला,
करोड़ों ख़ामियाँ मुझ में!
फिर भी तू मुझसे प्यार करे,
तो ये तेरा बड़प्पन नहीं तो क्या?
तू कहे कि अच्छाईयाँ मुझ में,
पर मेरी हर अच्छाई तेरे सामने छोटी,
क्योंकि तू वो जो दिल से अच्छा!
मैं खुशकिस्मत हूँ तुझे पा,
क्योंकि तू सब इंसानों से अच्छा!
June 9,2010 at 9:37pm

Monday, July 12, 2010

उसने हर बार कहा 'न'
मेरा दिल उसकी 'न' को ना समझ सका
मेरी हाँ और उसकी 'न' में
ज़िन्दगी पीछे छूट गयी
अब इस मोड़ पर
दोनों लफ्ज़ बे-माएने हैं
ना तो वो मेरे साथ है
और ना मैं उसके संग हूँ!!!
July 12, 2010 at 1.54 A.M.

Friday, July 9, 2010

जो आया है
वो इक दिन जाएगा भी
बस खुदा का शुक्र मना
कि उसकी रहमत से
जाने वाले का प्यार मिला तुझे!!
July 9,2010 at 10.41 A.M.
तुम जो साथ हो लिए
सितारों से आगे जहाँ बस गए
मुश्किलें आसान होती गायें
मंजिल और करीब आती गयी
तुम्हारा हाथ पकड़
हर उस राह पर चल दिए
जो राह काँटों भरी भी थी
तुम्हारी दोस्ती/प्यार ने वो ताक़त दी
कि अब तो हर मुश्किल से लड़ जाऊँ
और उफ़ भी न करूँ!!!
July 9, 2010 at 9.32 A.M.

Tuesday, July 6, 2010

The Final Destination

The door is open
The spirit has walked through
Leaving the world and its materialism behind
It has a rendezvous with The One
Because it knows
That only His Love completes her/him
This is its final destination
Where only Love and oneness with The one pervades
This is its permanent home
And it where the spirit is destined to be
From the time it comes to this world in a mortal form.
July 6,2010 at 5.04 P.M.

Thursday, July 1, 2010

तेरे दर पे आते हैं
झोलियाँ भरने की अर्जी लगाते हैं
भूल जाते हैं
कि तेरे दर पे आना ही काफी है
और तू देनदार बिना माँगे ही देगा!!!
July 1, 2010 at 3.40 P.M.
jo dil ki baat bata di abhi
to afsaana ban jaayega
log to zaalim hain
phir har baat pe taana denge!!!!
July 1, 2010 at 2.55 P.M.
teri mohabbat ko maine apni zindagi maana
tu hi meri mohabbat ki gehraayi na samajh paaya!!!!
July 1, 2010 at 2.31 P.M.

Wednesday, June 30, 2010

ਜਿਥੇ ਪਯਾਰ ਵਸਦਾ ਓਥੇ ਰਬ ਦਾ ਨੂਰ ਵਸਦਾ
ਪਯਾਰ ਤੋ ਉਪਰ ਕੁਝ ਨਹੀਂ
ਬਾਰਿਸ਼ ਦੇ ਪਯਾਰ ਚ ਮੋਰ ਨਚਦਾ
ਸੂਰਜ ਦੇ ਪਯਾਰ ਨਾਲ ਸੂਰਜਮੁਖੀ ਖਿਲਦਾ
ਚੰਦ ਦੇ ਪਯਾਰ ਚ ਪਪੀਹਾ ਕੂਕਦਾ... See More
ਕ੍ਰਿਸ਼ਨ ਦੇ ਪਯਾਰ ਦੀ ਮੀਰਾ ਦੀਵਾਨੀ
ਕ੍ਰਿਸ਼ਨ ਦੇ ਪਯਾਰ ਚ ਰਾਧਾ ਨਚਦੀ
ਜਿਦ ਦਿਲ ਚ ਪਯਾਰ ਨਹੀਂ
ਓ ਸ਼ੈਤਾਨ ਦਾ ਘਰ
ਪਯਾਰ ਹੈ ਤਾਂ ਸਬ ਕੁਛ
ਪਯਾਰ ਬਿਨਾ ਜੀਵਨ ਨੀਰਸ!!!!

जिथे प्यार वसदा ओथे रब दा नूर वसदा
प्यार तों ऊपर कुझ नहीं
बारिश दे प्यार च मोर नाचदा
सूरज दे प्यार नाल सूरजमुखी खिलदा
चंद दे प्यार च पपीहा कूकदा
कृशन दे प्यार दी मीरा दीवानी
कृशन दे प्यार च राधा नचदी
जिस दिल च प्यार नहीं
ओ शैतान दा घर
प्यार है ताँ सब कुछ
प्यार बिना जीवन नीरस!!!
June 30, 2010 at 4.26 P.M.

Sunday, June 27, 2010

उसने जो माँगा है
मैं क्योंकर उसे न दूं
मेरा वजूद उसके दम से है
मेरी हर सांस पर उसका हक़ है
वो है है तो मैं हूँ
वरना मैं तो रेत का इक ज़र्रा थी
उसने छुआ तो मैं फलक जा पहुँची
तस्वीर-ओ-तकदीर क्या
वो जान भी माँग ले
तो गम नहीं
जान देने से ग़ुरेज़ नहीं
कि जान भी उसके नाम से ही है!!!!
June 27,2010 at 9.42 P.M.
अकेले ही आयें हैं
अकेले ही चलना है
कोई हमसफ़र बन जाए तो ठीक
वरना अकेले ही बोझे-ज़िन्दगी ढो लेंगे हम!!!!!!!!!
June 27, 2010 at 9.51 A.M.
बस इस पल को जी ले
इस पल में ही ज़िन्दगी है
कल किसने देखा
कल की क्यों फ़िक्र करें
जो है बस आज है
कल तो कभी आता नहीं...
June 27, 2010 at 10.17 A.M.

Saturday, June 19, 2010

बन्दे नू ताँ लालच ने मार दित्ता
लालच दा मारिया
ओह क्यों न ज़खीर करे
पंख-पखेरू ने एस सब तों ऊपर
ते ओह क्यों न आज़ादी नाल आसमान च उडदे फिरन!!!...
June 18, 2010 at 11.49 P.M.
मेरा हाणी जे बनना सी,
ते कब्र च ग़रक क्यों हो गए?
मेरे नाल रह के वेखदा,
ज़िन्दगी दी खूबसूरती,
जो तेरे नाल सी!
हुन तू नहीं,
ते कहे दी खूबसूरती?
ग़रक हो गया है सब कुछ!
बस हुन ते तैनू मिलन दा अरमान है!
बुला ले मैनू आपणे कोल!
तेरी ही कबर च तेरे नाल रहांगी सदा!!!!
June 18, 2010 at 11.04 P.M.

Thursday, June 17, 2010

zillions of stars..
hundreds of galaxies..
what are we..
mere specks..
very small..
very tiny..
so,why not shine
like the diamond
and put our name on the sky...
June 17,2010 at 11.51 P.M.

Sunday, June 13, 2010

हम माटी के पुतले,
इक दिन इसी माटी में मिल जाना है!
कोई पहले,कोई बाद में,
सब ने उसके घर जाना है!
बस जो वक़्त बिताया
इक-दूजे के साथ,
वही साथ रह जाना है!
वक़्त गुजरा अच्छे से
यही सोच मुस्कुराना है!
जो गया है उसकी पनाह में,
उसे खुद वही देखेगा!
हम पर भी है उसका नज़रे-करम,
यही सोच जीवन जीते जाना है!!!!
June 13, 2010 at 1.29 A.M.

Friday, June 11, 2010

न पूछते जो वो हाल मेरा
तो हम उनसे शिकवा करते!
अब जो पूछा है हाल
तो हाले-दिल क्या बयाँ करें?
उसके बिना इक आँसू
अभी भी आँख में अटका है!
उनसे मिलने की चाह में जीए जा रहा हूँ
उम्मीद का मोती
सीप की तरह दिल में दबा रखा है!!!!
June11, 2010 at 12.44 A.M.
ऐ मेरे दोस्त मेरे हमनफ़ज़
तू मेरे अंतर्मन में समाया है
तू है सब कुछ है
ज़िन्दगी में कोई कमी नहीं है!
तू मेरे साथ इस तरह है
जैसे शारीर संग साया है!
माना की दूरी है हम में
पर मन से दूर नहीं हम!
इक रिश्ता है तेरी-मेरी आत्मा का
जो चाह कर भी झूठ्लाया नहीं जा सकता!!!
June 11, 2010 at 12.23 A.M.

Wednesday, June 9, 2010

घर की दर-ओ-दीवार,
माँ का लाड़,
पिता का प्यार,
आज भी याद आता है,
तो मैं फिर वही
नन्हीं-सी बच्ची
बन जाती हूँ!
दुनिया की नज़रों में,
बहुत बड़ी हो चुकी हूँ!
पर माता-पिता के
प्यार-ओ-दुलार के लिए
अभी भी बची हूँ!
नहीं चाहती कभी भी बड़ा होना,
उनके सामने,
कि कहीं मुझे बड़ा समझ,
उनका दुलार कम न हो जाए मेरे लिए!
जानती हूँ स्वार्थ है इस में मेरा,
पर उनके दुलार के लिए,
स्वार्थी कहलाना भी मंज़ूर है मुझे!!!!
June 9, 2010 at 2.06 P.M.

Tuesday, June 8, 2010

गर प्यार है सच्चा मेरा,
गर मोहब्बत में मेरी है असर,
मेरी आहों को तुम भूला न सकोगे!
जाओगे जहाँ-जहाँ तुम,
पाओगे हर जगह मुझे!
नज़रों से दूर कर दो,
चाहे दिल से भूला दो,
अपनी आत्मा के हर कोने से निकाल न पाओगे!!
June 8, 2010 at 7.12 P.M.

Monday, June 7, 2010

जो तीर चले तो सीने को भेद दे,
जो दरिया रुके तो बर्बादी फैला दे!
जो मेरे संग चले,
तो जाने मेरी गहराई को!
मैं शब्दों के बाण नहीं चलाता!
न ही मैं दरिया की तरह रुक सब तहस-नहस करता!
मैं पेड की वो छाँव
जो ठंडक दे!
मैं वो कायनात
जो रंगत दे!
मैं वो दुनिया
जो अपने दुश्मनों को भी ख़ुशी दे!!!
June 6, 2010 at 12:34am
तूफानों से जो डरते हैं डरें!
हम तो तूफानों में भी कश्ती डाल देंगे,
बशर्ते तू साथ हो!!!!!!!!!!!!
June 6, 2010 at 12:04am
तेरी गहरायियो में गुम हो जाने को जी चाहता था!
जब तेरे करीब आया तो महसूस हुआ की तू कितना खोखला है!!!!!
June 5, 2010 at 11:20pm ·
मेरा दोस्त ना जाने कहाँ खो गया है?
कहता है कि हमारी बात करो!
क्या उसे नहीं पता कि "हम" नहीं हैं?
मैं भी बटी हुई हूँ,
और वो भी!
शायद मैं कुछ ज्यादा और वो थोडा कम!
क्या फुर्सत नहीं उसके पास,
या कम बात करना चाहता है?
क्या मेरे लिए वक़्त इस लिए नहीं,
कि अब मैं और मेरी बातें,
बोझ लगने लगी हैं उसे?
वो कहता है कि क्या बात करें?
मेरे पास तो बहुत है उसे कहने को!
क्या वक़्त है उसके पास सुनने को?
मेरी जगह शायद कम हो गयी उसकी ज़िन्दगी से!
क्या पता ऐसा ना हो!
शायद मेरे मन का भ्रम हो!
मैं तो वहीँ हूँ जहाँ से मेरा दोस्त गया था!
वो भी शायद मुझे मिल जाए वहीँ,
जहाँ से वो गया था!!!June 6, 2010 at 1:38pm
रात के काले अँधेरे के साए में,
मैं दुबक के इक कोने में बैठा था!
कहीं भूतों के साए थे,
और कहीं अतृप्त आत्माओं की सिसकियाँ!
मेरी आत्मा इस चीख-ओ-पुकार से,
मेरे अंतर्मन में और दुबकती जा रही थी!
अचानक मेरी आत्मा की गहराईओं से इक आवाज़ आई:
'क्या हुआ है तुझे?
क्यों इस तरह बैठा है?
मेरी ओर देख,मैं तेरे साथ हूँ!'
सब चीख-ओ-पुकार ख़तम हो गया,
ऐसे जैसे मनो कभी था ही नहीं!
तब समझ में आया,
कि सच्चे मन से उस निराकार में
लौ लगाने का मतलब ही जीवन है!(07.06.2010)

Tuesday, June 1, 2010

मत हवा दो राख़ को.....

राख़ बन चुकी है हर ख्वाहिश!
दिल की हर तमन्ना अब ख़त्म हो चुकी है!
इस राख़ के ढेर को हवा मत दो,
इस में न शोला है न चिंगारी!
इस राख़ में तो मेरे दर्द दफ़न हैं!
हवा दोगे इस राख़ को,
तो दर्द टीस मारेंगे!
जीने नहीं देंगे ये दर्द फिर मुझे!
कब तक लादूँगा इस जिंदा लाश का बोझ मैं?
इस राख़ के ढेर को हवा मत दो,
इस में न शोला है न चिंगारी!(01.06.2010)
ये पागल दिल मेरा
अब सँभाले संभालता नहीं!
दुनिया की जंजीरों को तोड़,
आकाश में स्वछंद उड़ना चाहता है!
पर्वतों के पार,
बादलों के संग,
आसमान की ऊंचाइयों को
छूना चाहता है!
चाहता है एक बार फिर मिलन हो उससे,
जो उसका पूरक है!
चाहता है उससे मिलना वहाँ,
जहाँ कोई बंधन न हो!
समाँ जाती है जिस तरह सरिता सागर में,
जल जाता है जिस तरह पतंगा मोमबत्ती की लौ में,
गुम हो जाता है जिस तरह पपीहा चाँद के प्रेम में,
मेरा मन भी उसी तरह विलीन हो जाना चाहता है,
अपने प्रेमी में!
कुछ इस तरह की मेरी देह मेरी न रहे,
और मैं उस में समाँ जाऊं,
सदा के लिए!(01.06.2010)

Monday, May 31, 2010

आईने के सामने बैठी
तलाशती हूँ अपना चेहरा
जो दिखाई नहीं पढता
मुखोटों की धूल तले दबा मेरा चेहरा
न जाने कहाँ खो गया....
कल फिर बैठूँगी इसी आईने के सामने
ख़ुद को तलाशने...
शायद.....
कल ख़ुद से मुलाक़ात हो जाए....(31.05.2010)
तलाश-ऐ-ख़ुद पर निकला था घर से
ख़ुद से मुलाक़ात तो न हो पायी
घर से अलग बेगाना हो गया!!!!(31.05.2010)

Thursday, May 27, 2010

ज़िन्दगी की बिसात

ज़िन्दगी वो ज़ालिम इम्तिहान हैं जो पास किये पास नहीं होता
पता नहीं ज़िन्दगी की बिसात पर
कौन सा मोहरा किस करवट बैठे
और कहाँ मात दे दे
अपनी कपटी चाल से!!!(27.05.2010)
उनके आने से दिल का हर कोना भर गया
और कुछ पाने की चाहत ही नहीं रही!
चले गए जब वो मझधार में छोड़,
दिल का मकाँ वीराँ हो गया!
आज वो नहीं हैं मेरे साथ तो क्या,
कट जायेगा सफ़र-ए-ज़िन्दगी,
उनकी यादों के साथ,
जो आज भी मेरी ज़िन्दगी को महका रहीं हैं!!!(27.05.2010)

Monday, May 24, 2010

तेरे साथ....

तू किन भूल-भूलायिओं में खोया है?
मैं तो सदा तेरे साथ था!
दुखों से हताश जब तू ग़मगीन पड़ा था,
तब भी मैं तेरे साथ था!
जब तू तपती रेट में नंगे पाँव चल रहा था,
और पाँव के छालों के दर्द से तू कराह रहा था,
तब भी मैं तेरे साथ था!
मेरे क़दमों के निशाँ शायद उस वक़्त तुझे दिखे नहीं,
क्योंकि उन दुखों के वक़्त में तू मेरी गोद में था!
तू यह कैसे भूल गया कि मैं तेरे लिए ही हूँ!
जहाँ-जहाँ तू राह भटकेगा,
मैं तुझे वहीँ मिलूँगा,
तेरा हाथ थाम तुझे सही राह पर ले जाने के लिए!!(24.05.2010)

Sunday, May 23, 2010

दोपहर

आग उगलता सूरज,
झुलसती गर्मी,
बिलबिलाते बच्चे,
सड़ते पेड-पौधे,
पनाह माँगते जानवर!
सब आँखें उठाये,
आसमान की तरफ,
हसरत-भरी निग़ाहों से देख रहे हैं!
बरसो रे मेघा बरसो रे!
कब बरसोगे?
कब राहत मिलेगी इस गर्मी के उफ़ान से?
अब तो ठहर जा,
अपने वेग को तनिक कम कर!
माना कि तुम्हारा आग उगलना निहित है,
पर थोड़ा तो रहम कर!
तनिक साँस लेने दे!
जी लेने देने दे थोड़ी सी ज़िन्दगी!
अब तो ठहर जा,
अपने वेग को तनिक कम कर!(23.05.2010)

Thursday, May 20, 2010

मौत

मौत तो निशचित है
एक दिन आनी है सबको!
फिर मौत से कैसा घबराना?
यदि जीवन से मोहब्बत है,
तो मौत से कैसी घृणा?
मौत के डर से
घुट-घुट मरना क्यों?
जीवन का सुखद अंत है मौत!
तो फिर मौत से कैसा इन्कार!!(20.05.2010)

चुप्पी/ख़ामोशी

लफ़्ज़ों का क्या करना है?
बेपर्दा कर देंगे ये,
उन जज्बातों को,
जो सिर्फ नज़रों की बोली समझते हैं!!
उसका दीदार तो,
नज़रों की गहराईओं से होता है!!
खामोश रहने दे मुझे!
न कर लफ़्ज़ों के लिए इसरार!
मेरे साथ है तू न जाने कब से!
तो क्या तू मेरी चुप्पी को नहीं समझता??
लफ़्ज़ों में बयाँ हो बात निकलेगी,
तो लोगों के तानों का सबब होगी!!
मेरी ख़ामोशी ही मेरे प्यार का इज़हार है!
समझ इसे और मुझे चुप रहने दे!!!(20.05.2010)

Saturday, May 15, 2010

मोहब्बत है तो आज़माइश कैसी
जिसके लिए सब कुछ लूटा दिया
उसे अपने मरने का ग़म दे
रुलाना कैसा????(15.05.2010)
ਮੈਂ ਲਭਦੀ ਹਾਂ ਆਪ ਨੂ
ਪਤਾ ਨਹੀਂ ਕਿਥੇ ਗਵਾਚ ਗਈ
ਹੰਜੂ ਡਿਗਦੇ ਨੇ ਲਗਾਤਾਰ
ਮੇਰੇ ਤਾਤ-ਤਾਰ ਹੋਏ ਜੀਵਨ ਤੇ
ਟਕਰਾਂ ਮਾਰਦੀ ਹੈ ਜ਼ਿੰਦਗੀ
ਕਦੀ ਇਸ ਦੁਆਰੇ
ਤੇ ਕਦੀ ਉਸ ਦੁਆਰੇ
ਪਰ ਹਾਲੇ ਵੀ ਲਭ ਨਹਿ ਪਾਯੀ
ਇਹ ਮੇਰੀ ਜ਼ਿੰਦਗੀ
ਜੋ ਗਵਾਚ ਗਈ ਹੈ
ਇਸ ਸੰਸਾਰ ਦੀ ਭੀੜ ਵਿਚ!!!(15.05.2010)
मैं बंजर धरती,
प्यासी,
किसका पेट भरूँ!
भूखे-प्यासे बच्चे,
किसको शरण दूँ!
आसमान में,
बादल की हलकी सी आहट हुई!
मैं चौंक गयी!
लगा, कि मुझे तृप्त करने आया है!
मगर, वो मुँह फेर,
निकल गया!
सूखी आँखों से,
एक आँसू भी न छलका!
दिल पर जैसे एक वज्र सा गिर पड़ा!
वो चला गया,
मैं प्यासी ही रह गयी!
बेहाल,अतृप्त,अधूरी!!
मेरे बच्चे उम्मीद-भरी नज़रों से
मुझे देखते हैं!
दिल में इक फाँस सी चुभती है!
स्वयं प्यासी,
हाथ उठा ख़ुदा को कहती हूँ,
"तू भी तो पिता है,
जैसे मैं माँ हूँ!
इन बच्चों को अपने आशीर्वाद से
निहाल कर!
इनकी प्यासी आत्मा को
सकूँ बक्श
कि वो तृप्त हो सर उठा कह सकें--
वाह ख़ुदा तेरी कुदरत,
वाह ख़ुदा तेरी खुदाई!!!"(15.05.2010)

Thursday, May 13, 2010

तेरे हाथों में जो कलम है--
वो भी मेरे ही अस्तित्व से बनी है
तू कहता है मैं सियाही हूँ
हाँ हूँ तो
उस बनाने वाले ने मुझे बनाया है इसी लिए
कि तू अपनी भावनाओं को प्रकट कर सके
मेरे माध्यम से!!!!

सियाही

तुम लिखते हो तो हम भी तनिक कागज़ काला कर देते हैं अपनी सियाही से!!(13.05.2010)

पैगाम

वो चिड़िया तुम्हारे पास कहाँ से आती
वो तो अभी बैठी है मेरे कन्धों पर
जो हवा तुम्हें मेरे होने का पता दे
वो हवा आज कुछ मंद सी है
बादलों कि गरज आई तो थी मेरा पैगाम ले कर
मगर वो भी कहीं खो गयी इस फैले आसमान में
तुम्हारे संग तो मैं सदा से हूँ
फिर क्या करना इन सब से पैगाम ले कर
अपने मन में झाँक कर देखो
मुझे वहीँ पाओगे
जहाँ छोड़ गए थे कुछ समय पहले !!!(13.05.2010)

गठ-बंधन

तुझ में मैं समायी हूँ
मुझ में तू है
हम दोनों का गठ-बंधन
दुनिया को उसकी पहचान देता है
तू मेरा पूरक है
और मैं तेरी
तू नहीं तो मैं नहीं
मैं नहीं तो तू नहीं
एक दुसरे के भीतर रह कर ही
हम जिंदा हैं
और पूरण करते हैं
ईशवर के चित्र को!!!(13.05.2010)

Tuesday, April 13, 2010

आँखों में सुन्हेरे कल के सपने हैं
फिर भी चेहरे उदासी क्यों है?
समेत लो इन सपनों को अपने आँचल में
कहीं ये उदासी उन्हें अपने अँधेरे में ग़ुम न कर दे!!!!(13.04.2010)

Friday, April 9, 2010

इन्टरनेट

तुम दूर हो
बहुत दूर
लगता नहीं तुम मिलोगी कहीं
एक दिन इन्टरनेट के माध्यम से
तुम से मुलाक़ात हो गयी
दिल ने कहा तुम ही हो,तुम वही हो
तुम से मिलने पर मैं खो सा गया
सब कुछ भूल गया
अपने अंतर्मन की सब बातें तुम से कह डालीं
लगा मानो हम में कोई दूरी नहीं है
तुम मेरे करीब हो
इतनी करीब की तुम मुझ में समां गयी
और मैं तुम में
हम दोनों एक हो गए
मैं भूल गया की तुम कोरी कल्पना हो
तुम मेरी तरह नहीं हो सकती
मैं तो तुम्हारा तस्सवुर कर
तुम्हे अपने रूप में ढालने के लिए बेताब फिर रहा हूँ
पर कल्पना तो कल्पना है
उसे कहाँ रूप दे पाउँगा मैं
तुम्हारी काल्पनिक खूबसूरती का पार न पा सकूंगा
मैं तो केवल दूर से देख कर तुम्हे
अपनी संगिनी बनाने का ख़वाब ही देख सकता हूँ
फिर एक दिन तुम चली गयीं
कभी न लौटने के लिए
ख़ाली स्क्रीन मुँह बाए मेरी तरफ देख रही है
मानो मुझे चिढ़ा रही हो
कह रही हो
कि कल्पना कभी वास्तविकता नहीं बन सकती
वो तो केवल कुछ पलों के लिए
मन को बहला देती है
पर मैं खुश हूँ
कि कुछ पल के लिए ही सही
मैंने तुम्हें पाया तो सही
बस मेरा जीवन सफल हो गया
एक बार तुम्हें मिलने के बाद
अब मौत भी आये तो कोई ग़म नहीं
क्योंकि तुम एक हो गयी मुझ में समां कर!!!!!!!!!!!!(09.04.2010)

Sunday, March 28, 2010

धुंध

धुंध छटी
कोहरा हटा
दोनों के चेहरे साफ़ दिखाई देने लगे
जो प्यार उसके चेहरे पर देखने को तरस रही थी
वो नहीं मिला
चेहरे पर केवल उदासीनता के भाव थे
मानो कह रहे हों
कि तुम्हारे प्यार के बदले में देने के लिए
मेरे पास प्यार नहीं
मैं तो केवल कुछ दूर चल पड़ा था तुम्हारे साथ
केवल एक मित्र कि तरह
मैं तो तुम्हारा वो हमसफ़र नहीं
जिसकी तुम्हे तलाश है
मैं तो कुछ दूर साथ चला था
सिर्फ तुम्हारे सफ़र को आसान करने के लिए
अब तुम्हारे मेरे रास्ते अलग हैं
क्योंकि मैं तुम्हारा वो प्यार नहीं
जिसकी तुम्हे तलाश है!!!!!!!!!(28.03.2010)
मैनू इश्के ने होर कुछ करन न दित्ता
यार दे इलावा कुछ दिखन न दित्ता
मैनू इश्क ही करन देओ मित्रो
इस विच ही मेरा जीना है
मैं ताँ इश्क दे इलावा होर कुछ सिखया नहीं
मैनू इस इश्क करन तो न हटाओ मित्रो!!!!(28.03.2010)

MOTHER

This one word encompasses the entire universe
she gives selflessly
she loves unconditionally
she prays silently
she cries for her children secretly
stays hungry herself
and gives the last morsel to her children
sleeps in the wet
and makes the child sleep in the dry
laughs when the child laughs
cries when the child is in pain
those who have their mothers
are,indeed, blessed
but those who are motherless
are deprived of her selfless love
so,love your mother
and give her all the respect she deserves
she is your gift from God
love her,cherish her
but never ever slight her.(28.03.2010)

Tuesday, March 23, 2010

पानी

पानी के बिना क्या जीवन है
पानी है तो सब है
वरना सब व्यर्थ है
आज इंसान चाँद पर पानी ढूँढ रहा है
और न मिला है पानी उसे मंगल पर
धरती पर पानी है तो उसे व्यर्थ गवाँ रहा है
आज भी अगर जागे
तो सवेरा होगा
नयी सुबह का सूरज मुस्कुराएगा
आओ मिल कर प्रण करें
पानी को बचायेंगे
अपनी आने वाली नस्लों के
उनके लिए प्यासी बंजर धरती
की धरोहर नहीं छोड़ कर जायेंगे
उन्हें देंगे एक हरा-भरा संसार
जिसमें न ही पानी की कमी हो
और न जीवन की!!!(23.03.2010)

शहीद

वो जिन्होंने जान दे दी देश को आज़ाद करवाने में
आओ याद करें उनकी कुर्बानी को
सीस नीवाएं उनके आगे
शायद फिर कोई भगत सिंह न आये हमारे बीच
न ही कोई राजगुरु न सुखदेव होगा
आज तो मायावती और लालू है हमारे बीच
जो अपने जीते-जी बुत बनवायेंगे
और भगवान् की तरह पूजे जायेंगे
ये क्या करेंगे देश के लिए
ये तो खुद के लिए जिए जायेंगे
भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव
अपनी कुर्बानी पे शर्मिंदा होंगे
कि देश को आज़ाद करवाया
क्या ऐसे नेताओं के लिए??
पर ऐ मेरे हम वतन
आ आज कसम खाएं
कि उनकी कुर्बानी को ज़ाया न होने देंगे
हम भी देश के लिए कुछ कर गुजरेंगे
और देश के लिए मर कर हम भी "शहीद" कहलवायेंगे!!!!(23.03.2010)

फूल

उसके न होने का ग़म तो है
उसके न होने से आँखें नम भी हैं
वो साथ नहीं तो क्या
उसकी यादें मेरे मन में बसती हैं
उसने मेरे आँगन में जो कलियाँ खिलाईं थीं
आज वो फूल बन कर
मेरे आँगन को महका रहे हैं
तू नहीं है उसका ग़म तो सदा रहेगा
पर तेरे होने का एहसास
इन फूलों से सदा रहेगा!!!!!(23.03.2010)

Sunday, March 21, 2010

धरती

प्यासी बंजर धरती
टकटकी लगाए आसमान की ओर देख रही है
आशा है की बादल बरसेंगे
और उसकी प्यास बुझा उसे तृप्त करेंगे
परन्तु बादल तो निर्मोही हैं
मुँह मोड़ कर जा रहे हैं
धरती लाचार सी
उन बादलों को जाते हुए देख रही है
जानती है कि बेबस है
कुछ नहीं कर पायेगी
केवल तरसती निग़ाहों से
उन बादलों को जाते हुए देखती रहेगी!!!!(21..03.2010)
लोकी रब-रब करदे ने
असी यार विच रब पा लिया
यार दी सूरत विच रब डा नूर वसदा
यार दे प्यार ने रब नू मिला दित्ता!!!(21.03.2010)

Friday, March 19, 2010

उसका आना

वो आये और आ कर रह जाए
तो उसका आना सर आँखों पर
दुनिया की रस्मों को तोड़ कर आये
तो उसके आने की नवाज़िश
वो आये केवल मेरा मन रखने के लिए
तो मैं उसके बिना ही जी लूँगा
वो आये मेरी बन कर रहने के लिए
तो दुनिया भूला दूंगा
वो आये मोहब्बत के एहसास के लिए
तो उसकी चाहत में सब लूटा दूंगा!!!(19.03.2010)

Friday, March 12, 2010

Chairs

Two chairs
Sitting across each other
Looking into each other’s eyes
Beckoning one another
The table in between
Acts as a bridge
Despite the distance
There is an unfathomable connection
Intangible yet tangible
It dispels the loneliness
Of an otherwise lonely soul
The warmth of their togetherness
Lifts all solitude
Two companions, two soul mates
Perfect for each other
Even divine intervention
Cannot separate them
They are made for each other
Till death do them part.(12.03.2010)

Sunday, March 7, 2010

बेकरार

मैं जी रही हूँ,
भोग रही हूँ ,
इस जीवन के समस्त सुखों को!
मेरे भीतर एक अथाह प्रेम का सागर है,
जो बेकरार है बाहर आने को!
यह प्रेम जो स्वार्थी नहीं है!
जो केवल देना चाहता है,
खुशियाँ!
जो बाँटना चाहता है ,
दर्द!
जो चाहता है,
समां जाना ,
किसी के भीतर!
और विलीन हो जाना चाहता है उस में,
जैसे नदी विलीन हो जाती है सागर में!
और भूल जाती है,
अपना अस्तित्व!
क्योंकि सागर ही तो
उसका पूरक है!
मेरे भीतर का अथाह प्रेम
सागर के लिए ही तो है!
जो समेट लेगा मुझे अपने आँचल में
और मेरे इस अथाह प्रेम को मकसद देगा
जो बेकरार है सागर में विलीन होने को!!!(07.03.2010)

असहायता

मेरे वजूद का होना न होना एक बराबर
यदि यह किसी के काम न आ सके!
मेरी दयनीय असहायता मेरा मुँह चिढ़ाती है,
मुझ पर हँसतीं है !
मुझ से हर बार कहती है--
उठ, कुछ कर !
उन अभागों के लिए,
जिनका और कोई नहीं है!
उठ, और उन्हें गले लगा,
जो प्यार को तरसते हैं!
तेरे तो पाँव हैं जो तुझे तेरी मंजिल की तरफ़ ले जायेंगे!
उठ. और उनका सहारा बन,
जो चल नहीं सकते!
तू तो दुनिया देख सकता है,
उन्हें अपनी आँखों से कुदरत के रंग दिखा,
जिनकी दुनिया बेरंग है!
अपनी असहायता के दायरे से बाहर निकल,
और उनके लिए जी जो तेरी ओर आँखें बीछाए, टकटकी लगाए
उम्मीद भरी आँखों से देख रहे हैं!
क्योंकि शायद वह तेरी क्षमता को देख सकते हैं
वह क्षमता जो तेरी असहायता के पीछे छिपी है!
उठ, और अपनी असहायता को अपनी ताक़त बना
और दुनिया के दर्द को बाँट,
अपनी हस्ती बना!!!!(07.03.2010)

Saturday, February 20, 2010

A Conversation With God

I was sleeping soundly
and suddenly, I was woken with a jolt.
A bright light was shining
and it was emitting rays of gold.
In that light I could see an Entity
and it seemed to envelop my personality.
He said,"Come to me, my child,
I am God."
I was deeply moved
and could not utter a word.
He said,"Do you have any questions?
I am here to answer them."
I suddenly found my voice and said,
"I would like to ask You a few things
if You have the time."
God answered graciously,
"Eternity is My time
and it is enough for Me to do everything in."
I asked a little hesitantly,
"What surprises You most about mankind?"
God smiled benignly and said,
"Very quickly they get bored with being children
and want to grow up.
And, when they do grow up,
they want to be children again.
They are in a rush to make money
and lose their health in the process.
And, then, they lose their money
to restore their health.
They think about their future
and pine for what is not.
They forget the present
and, then, they live, neither for the present
nor for the future.
They live as if they will never die
and, when they die,
they do so so ignominiously
as if they had never lived."
I was trying to understand all that God had said.
Suddenly, He took my hands
in His hands
and reassured me with His beatific smile.
I found the courage and asked again,
"What would You like to teach Your children?"
God smiled again and answered,
"That you cannot force anyone to love you.
That, if you love someone,
you must let him go and set him free.
If he would come back,
he would be yours forever.
If he doesn't, he never was yours to love.
That, what is precious is not life,
but what they do with their life.
It is not important who you are.
What you are, is more important.
That, comparisons never got anyone anywhere.
But, what you are as an individual
is going to open the Gates of Heaven for you.
That, riches are not going to get you a good life.
You are rich if your needs
are the least,
and that would result in a fruitful life.
That, it is easy to hurt someone
and make him bleed.
But, it is a tough task
to tend to wounds and cure them.
That, the quality admired the most by all
is to learn to forgive and forget.
That, money is important in life.
But, it cannot buy you a night's sound sleep.
And, above all, to know
that your Dharma is to do your Karma
without thinking about the fruits.
Follow the path of goodness
and leave the rest to ME.
To understand
that I am there for you now
and will be there forever.
That you should have faith in ME
and I will show you the path to Heaven."
I stood there in front of Him
and could not utter another word.
I was so awe-struck by the spectacle and the replies
that I felt overwhelmed.
Suddenly, the light disappeared
and with it the Vision of God.
My life was enriched for a while
but I was hungry for more.
Like all human beings
greed enveloped me
and I wanted to have more.
Then, I remembered what God had said
and, all avarice, anger, hatred and pride left me.
My whole being was filled with love,
Love for God and Love for my fellow beings.
Life seemed to acquire a new meaning.
I felt one with the ONENESS of GOD.
And, the lesson I learnt was---
If God is with me,
then, nothing and no one can go against me.(13.09.2000)

The Sound of Silence

The silence is too loud.
It screams.
Gnaws at the conscience.
It mocks.
And,strangely,it leads to nothing.
It is there
all around
enveloping everything.
It eats at the insides
making them hollow.
Yet,no sound comes out.
It remains inside.
But,the screams can be heard everywhere.
It is there
within and without.
It screams
and continues to gnaw at the conscience.
And yet,we do nothing.
We are slaves to this silence
which is too loud,
which screams
and wants to be heard.
Yet,we do nothing about this silence
which screams.(22.12.2000)

Thursday, February 11, 2010

साथ

दो लोग, जो साथ-साथ चल रहे हैं;
क्या वे सचमुच साथ हैं?
क्या वे "साथ" का अर्थ समझते हैं?
वे साथ हैं,क्योंकि वे शादी-शुदा हैं!
वे साथ हैं,क्योंकि उनके बच्चे हैं!
क्या साथ रहने का कारण यही है?
क्या ये साथ,कुछ समय के बाद,
उनको एक दूसरे से दूर नहीं कर देता?
क्या उनका साथ केवल एक
समझौता नहीं बन कर रह गया?
जहाँ दो लोग,नदी के दो किनारों की तरह
साथ तो चल रहे हैं,पर कभी मिलते ही नहीं!
साथ-जो केवल शारीरिक है,
जिसमें कोई आत्मीयता,कोई अपनापन नहीं!
साथ,जो नासूर बन,दिन-रात रिसता रहता है!
क्या ऐसा साथ बहुत दिन तक चल पायेगा,
उन दो लोगों के बीच,
जो केवल साथ-साथ चल रहे हैं?
और साथ चलते हुए भी साथ नहीं हैं?(12.09.2001)

अँधेरा

अँधेरा हर चीज़ को खा जाता है
अँधेरे में साया भी साथ छोड़ देता है
पर रोशनी की एक छोटी सी किरण
अँधेरे को चीर कर रख देती है
और
अँधेरा, जो स्वयं को बहुत बलवान समझता है,
रोशनी के आते ही गायब हो जाता है
और उसमें समा जाता है
अँधेरे से घबराना बेवकूफी है,
नासमझी है, नादानी है
क्योंकि आशा की रोशनी
सदा हर अँधेरे को ख़त्म कर देती है!!(10.05.2002)

Luck

The more I think about life
The more I see no rhyme or reason in it.
Why some things work and some don't?
Why some of us get lucky and some don't?
I fail to understand.
Luck and time are not on my side for sure.
Otherwise,who knows,I too might have been
One of those lucky ones!!!!(14.02.2009)

Tuesday, February 9, 2010

मुलाकात

एक दिन जब पीछे मुड़ कर देखा
ज़िन्दगी पीछे खड़ी थी!
जी तो रही थी मैं
पर जिंदा नहीं थी!
वो चुलबुलापन और वो हँसी के ठहाके
कहीं पीछे छूट गए थे!
जिम्मेदारियों ने इतना जकड लिया था
कि मुस्कुराना ही भूल गयी थी!
अचानक एक दिन
फिर ज़िन्दगी से मुलाकात हो गयी!
और, आज हम दोनों साथ-साथ चल रहे हैं
उसी चुलबुलेपन और हँसी के ठहाकों के साथ ले कर
जो कभी पीछे छूट गए थे!(06.11.2005)

Saturday, February 6, 2010

अनजाना

वो अनदेखा सा था
इक अनजाना
वो भी आगे बढ़ा
मैंने भी हाथ बढाया
फिर न जाने कौन सी आँधी चली
उसकी आहट उसमें दब कर रह गयी
बिना कुछ कहे वो समय के अँधेरे में गुम हो गया
वो अनजाना अनजाना ही रह गया
अपने रहेस्यों को खुद में समेटे
वो चला गया
समय की धारा में वलीन होता
वो चला गया
और उसकी अनकही
उसी के साथ चली गयी
मैं समझ नहीं पायी
इस रहस्य को
पर वो अनदेखा सा अनजाना सा
चला गया!!!!(06.02.2010)

Monday, January 25, 2010

निर्मोही

दुःख कहाँ छिपता है छिपाने से
आँखों से अश्कों में बह जाता है
मुँह से दर्द भरी आह बन कर निकलता है
डबडबाती आँखों से
लरजते होठों से
उसकी ओर देखती हूँ
कि शायद कहीं पनाह मिल जाए
पर वो तो निर्मोही है
हरजाई है
वो कहाँ देखता है मेरी इस हालत को
वो तो बस खड़ा है मेरे सामने
मेरे हर दुःख को नज़रंदाज़ कर
मेरे दर्द को और बढाने को!!!(24.01.2010)

Friday, January 22, 2010

वासना

औरत के जिस्म को नोचता-खसोटता
अपनी वहशी प्यास बुझाता
आदमी आगे निकल जाता है
एक बार भी पीछे मुड़ कर नहीं देखता
की वो पीछे कौन सा खंडहर छोड़ आया है?
क्या उसे एहसास नहीं होता की औरत की अस्मत की कीमत नहीं होती?
क्या उसे नहीं पता की औरत पाक होती है?
उस औरत से वो अपनी वासना भुजाता है
जो जननी है, माँ
अपने इस वहेशीपन से कब निकलेगा आदमी?
कब?
क्या सब ख़त्म होने के बाद?
क्या नहीं जानता की औरत उसकी वासना की अधिकारी नहीं?
क्या नहीं जानता की औरत को प्यार दे तो वो उसके लिए अपनी जाँ भी लूटा दे?
तो क्या ज़रूरी है वासना यह नंगा नाच?(22.01.2010)

Wednesday, January 20, 2010

यादें

बीते दिनों की याद कहाँ जाती है
वो तो दिन-रात साथ रह यों ही तडपाती है
यादों के साये काले नाग की तरह डसते हैं
कहाँ से लाऊँ वो नेवला
जो इन नागों को खा जाए
क्या हो की इन यादों के साये से निकल पाऊँ
तपती रेत पर चलते
कहीं तो सुकूँ पाऊँ
कहीं तो मिलेगा यादों के इस रेगिस्तान में कोई
मरुद्यान
जो मेरी तपती रूह को शाँत करे
और अपने शीतल जल से
यादों की इस आग को ठण्डा कर दे!!!!!!!(20.01.2010)

Sunday, January 17, 2010

कृति

रिश्ते तो प्यार के होते हैं
द्वेष और नफरत तो इन रिश्तों को तोड़ते हैं
जो प्यार न करे वो कैसे इन्सां
शैतानी फितरत तो केवल मौत देती है
नफरत के इस भंवर से निकल कर
प्यार का पैग़ाम जो फैलाए
वही उस ईशवर की सच्ची कृति!!!(17.01.2010)

Saturday, January 16, 2010

नामो-निशाँ

क्यों पैदा होते हैं?
क्यों मर जाते हैं?
बिना कुछ किये, बिना कुछ कमाए
ज़िन्दगी के धुएँ में खो जाते हैं!
की इसी लिए पैदा होते हैं
कि इक दिन मिट्टी में मिल जाएँ,
ख़ाक हो जाएँ
और कहीं भी उनका कोई नामो-निशाँ न रहे?
फिर क्यों पैदा होते हैं
क्या सिर्फ मरने के लिए?(25.01.1998)

Womb

Is my womb not my own?
From the time I am born
to the time I die,
I am being pushed around.
I cannot choose what I want to do.
I am merely treated as an object all the time.
Even when I become pregnant
with a girl child,
I am forced to abort it.
But, I am not asked to abort the boy foetus.

Why should my womb
listen to the dictates of the patriarchal society?

It is my womb, my life,
and the life I bring into this world
will only be mine.
It will be a human life
not a boy or a girl.(23.02.2006)

Monday, January 11, 2010

सामना

ज़िन्दगी जीने के लिए है
बिना ख्वाहिशों के जिए तो क्या जिए
डर गए गर तूफानों से
तो समंदर में कश्ती मत डालो
जो किया उन तूफानों का सामना
तो मरने से डरना क्या!!!(11.01.2010)

सज़ा

मोहब्बत सज़ा है
यह मत समझिये
मोहब्बत तो वो एहसास है
जो रोम-रोम महका देता है
मोहब्बत जिसने नहीं की
उस से पूछो की उसने क्या खोया
फिर एहसास होगा की तुमने क्या पाया
मोहब्बत में सब कुछ लुटा के!!!(11.01.2010)

गम

मेरे गम तो मेरे साथी हैं
साये की तरह मेरे साथ रहते हैं
मैं इनकी क्या नुमाइश करूँगी
यह तो आँखों से छलक कर
खुद ही अपनी कहानी बयाँ कर देते हैं!!!(11.01.2010)

चमन

उनके आ जाने से आ जाती है बहार
ऐसे की सब खिल उठता है
मैं फूलों को क्या देखूँ
मेरे पास तो चमन है!!!(11.01.2010)

कहानी

प्यार में मैं कहानी बन जाऊँ
ऐसा तो न चाहा था
उसकी आँख से गिरे मोती की तरह
उसके गाल से लिपट जाऊँ
ऐसा खुदा से माँगा था
यह तो थी मेरी तकदीर
की उसकी आँख के आँसू ही नम हो गए
न तो उसके गाल से ही लिपट सकी
और न ही प्यार में कहानी बन पायी!!!(11.01.2010)

नैन

नैन दिल की बात कहते हैं
यह सच है
पर दिल की हर बात नैनों से बयाँ नहीं होती
दिल रोता है नैन कुछ और कहते हैं
दिल के दर्द को
कभी नैन भी छिपा देते हैं!!(11.01.2010)

आशिक

प्यार गुनाह है
ऐसा मत कहिये
प्यार में जो खुद को गँवा दे
उसी को सच्चा आशिक कहिये!!!(11.01.2010)

मिसाल

इश्क में खुद को मिटा देना
यही इश्क का दस्तूर है
इश्क करिए तो ऐसे करिए
की इश्क की मिसाल बन कर रहिए!!!(11.01.2010)

ਪ੍ਰੀਤ(preet)

ਜੇ ਪ੍ਰੀਤ ਨਾ ਕੀਤੀ
ਤੇ ਕੀ ਕੀਤਾ
ਜੇ ਦਿਲ ਨਾ ਲਗਾਯਾ
ਤੇ ਕੀ ਪਾਯਾ
ਪ੍ਰੀਤ ਕਰਕੇ ਜੋ ਪਾਯਾ
ਖੁਦਾ ਦਾ ਨੂਰ ਪਾਯਾ!!!(this is in Punjabi)
जो प्रीत न की
तो क्या किया
जो दिल न लगाया
तो क्या पाया
प्रीत करके जो पाया
उस में खुदा का नूर पाया!!(11.01.2010)

इंतज़ार

जो मज़ा इंतज़ार में है
वो मिलने में नहीं
इंतज़ार प्यार को और गहरा देता है
और प्यार का एहसास और मीठा हो जाता है!!(11.01.2010)

ज़ख्म

सब अश्क दिखाए नहीं जाते
सब दर्द बयाँ नहीं करते
कुछ तो दिल में रहने दो
यूँ अपने ज़ख्म दिखाया नहीं करते!!!!(11.01.2010)

प्यार

प्यार में नफ़ा क्या नुक्सान क्या
प्यार किया तो यह सब सोचना क्या
प्यार है तो दर्द भी होगा
तो उस दर्द से मुँह मोड़ कर जीना क्या!!(11.01.2010)

उनका आना

उनके आने से हवा महक उठती है
चमन खिल उठता है
उनके चले जाने से ख़त्म हो जाती है होठों की हँसी
ऐसे जैसे कभी मुस्कुराये न हों!!!(11.01.2010)

महबूब

महबूब पास हो तो ज़िन्दगी खूबसूरत है
महबूब नहीं तो क्या जीना
महबूब के बिना ज़िन्दगी मौत है
ऐसा जीना भी क्या जीना
जिस में महबूब की मोहबत नहीं!!!!(11.01.2010)

कलम

कलम बनी ही इसी लिए है की वह दिल के गम
कागज़ पर उतार सके--यदि कलम न होती तो
इन ग़मों को बाहर आने का जरिया कहाँ से मिलता!!!!(11.01.2010)

हुस्न और इश्क

हुस्न को क्यों न गरूर हो खुद पर
जब इश्क उस पर फ़िदा है
खुदा ने हुस्न बनाया है
की इश्क उस पर मिट के फना हो जाए!!(11.01.2010)

अश्क

रोक लो इन अश्कों को
इन्हें यूँ ही मत बहने दो
दिल के बाज़ार में
इनकी कीमत बहुत है
इन्हें यूँ ही मत बहने दो!!!(11.01.2010)

Sunday, January 10, 2010

भूख

भूख, जो हर इन्सान के अंदर होती है
किसी को तख्तो-ताज की भूख है
तो किसी को दौलत की
किसी को भगवान बनने की भूख है
तो किसी को शैतान बनने की
किसी को औरत के जिस्म की भूख है
तो किसी को उसे मिटाने की
हर व्यक्ति अपनी भूख से घिरा,
अधमरा, बेजान सा,
जिए जा रहा है
पता नहीं क्यों;
किसके लिए?
शायद अपनी भूख को शांत करने के लिए
बिना सोचे-समझे,
बेमकसद,
केवल जिंदा है
अपनी भूख को मिटाने के लिए!!!(17.06.2002)

जीवन और मृत्यु

जीवन और मृत्यु
तस्वीर के दो पहलू
जीवन मिला है
तो मौत भी आएगी
विधि का विधान है
ईशवर का वरदान है--
जीवन
तो मौत भी उसी की
दी हुई है
जीवन को स्वीकारते हुए
हमें मौत भी स्वीकारनी होगी
जीवन में कुछ भी निशचित नहीं
परतु मौत तो निशचित है
तो फिर मौत से कैसा भय
क्यों मौत का खौफ
मौत तो आनी है
और एक दिन अवश्य आएगी
तो क्यों न कुछ ऐसा कर जाएँ
की मरने के बाद भी न मरें
और जीवन से अधिक लोग याद करें
कुछ इस तरह
की हम हँसे और जग रोये !!!(26.03.2002)

Saturday, January 9, 2010

रिश्ते

कुछ रिश्तों का कोई नाम नहीं होता
ऐसे रिश्ते बन जाते हैं
कब कहाँ कैसे
कोई नहीं जानता
और फिर एक दिन
यही रिश्ते बहुत अहम् हो जाते हैं
उसके लिए
जो इन रिश्तों की अहमियत को समझता है
ऐसे रिश्ते जो बन जाते हैं
जाने कब कहाँ कैसे
पर बन जाते हैं ज़िन्दगी भर के लिए!!(01.04.2006)

बेबसी

और वो चला गया
उसने मुड़ कर नहीं देखा
और मैं उसे जाते हुए देखती रही
त्रिशंखू की तरह
अधर में लटकी
मैं सोचती रही
और उसे जाते हुए देखती रही!!(21.02.2007)

अस्तित्व

कभी बेटी कभी बहन
कभी पत्नी कभी माँ
टुकड़े हुई ज़िन्दगी में
खुद को दूंढ़ती हूँ
सोचा तो पाया
की मेरा अस्तित्व
इन सब का समावेश तो है ही
मैं बेटी बहन पत्नी माँ तो हूँ ही
परन्तु मैं इन सब से ऊपर भी हूँ
क्या मैं केवल उस युगपुरुष की पसली से जन्मी हूँ
जो स्वयं मेरी कोख से पैदा होता है
मैं उस निराकार भी आकार हूँ
जो मेरे मन में बसता है
मैं सब कुछ हूँ
और सब से ऊपर भी हूँ
क्योंकि मैं हूँ!!!!!!!(07.03.2007)

बेखबर

जो नहीं जानते की वो क्या कह रहे हैं
जो नहीं जानते की उन्होंने ने क्या खोया है
ऐसे लोगों पर क्या गुस्सा करें
वो नादाँ तो बेखबर हैं अपने नुक्सान से!!!(21.06.2009)

एहसास

आज जब गुजरी उस गली से
तो देखा वो मकान जो कभी घर था
दीवारों से लिपटी यादें
चीख-चीख कर पुकार रही थीं
शायद कह रहीं थीं
की कभी इस मकान में हँसी बसती थी
आज हर तरफ मातम का माहौल है
खिड़की दरवाज़ों को छू कर जो हवा आयी है
तुम्हारे न होने का पता बता रही है
आज इस मकान की हर दीवार
तुम्हारे न होने के एहसास तले दबी जा रही है
ढह रहे हैं दरो-दीवार
क्योंकि तुम नहीं हो
शायद यह मकान फिर कभी घर न बन पाए
शायद यहाँ फिर कभी हँसी न बस पाए
क्योंकि तुम नहीं हो
आज गुजरी जब उस गली से
तो देखा वो मकान जो कभी घर था!!!!!(13.03.2009)

Friday, January 8, 2010

अंश

मेरी कोख से पैदा हुआ
मेरे लहू के कतरों ने जिसे सींचा
मेरे कलेजे का टुकड़ा
मेरा अंश
मेरी ऊँगली पकड़ कर चला
मेरी बातों से हँसा
मैं गीले में सोयी
उसे सूखे में सुलाया
उसके हँसने से हँसी
उसके रोने से रोयी
आज वह कहता है
"माँ तू कुछ मत कह
तेरे पास मेरे लिए वक़्त नहीं
मैं अपनी ज़िन्दगी खुद जी लूँगा
बस मुझे रहने दे, छोड़ दे"
मैं एक माँ---
कलेजे के टुकड़े ने कलेजे के टुकड़े कर दिए
आज बैठी हूँ इन टुकड़ों को समेटने
तो सिवाए दर्द के कुछ नहीं मिलता
इक तीस सी उठती है
और दर्द का एहसास औए गहरा हो जाता है
कहाँ है मेरा वो लाल
जो मेरे लिए कुछ भी कर सकता था
आज इस माँ की व्यथा को कौन समझ सकता है
शायद माँ की नियती यही है
घोंसला छोड़ कर उड़ जाता है इक दिन नन्हा पंछी
माँ बस उसे उड़ कर जाते हुए देखती रहती है!!!!!!!!!!(20.12.2009)

चेहरा

अपना चेहरा ढूँढ रही हूँ
अपने ही वजूद में
ज़िन्दगी से झूझते हुए
जीवन के थ्पड़े सहते हुए
मेरा वजूद न जाने कहाँ खो गया
उसी में मेरा चेहरा भी कहीं गुम हो गया
आज तलाशती हूँ दोनों को
तो सिवाए इमारत के खंडर के
कुछ नहीं मिलता
शायद कहीं भूले से
इन्हीं खंडरों में
कभी अपने वजूद और अपने चेहरे से
साक्षात्कार हो जाए
शायद कभी पहचान पाऊँ
अपने वजूद और अपने चेहरे को
जो कभी मेरे थे!!!!!!!(20.09.2009)

Tuesday, January 5, 2010

Masks


All of us are wearing masks.
The handshakes are a mere formality.
The laughter does not reach the eyes.
The happiness does not stem from the heart.
We change our masks
as we change our clothes.
We are not full of joy
when we meet people.
We are only happy when they leave.
We ask them to come again
and be our guests.
And, when they come again
we want them to leave
and never come back again.
Yes, we have become hypocrites.
How I wish to have those days back
when the handshake was full of warmth,
when genuine laughter shone from genuine malice-free eyes,
and, when happiness was actually felt by a carefree heart.
Hold my hand, my dear
and take me to that time and place
where everything is real and felt truly by the heart.(10.05.2007)