CLOSE TO ME

My friends,
It feels good to have my own blog.....there are things which are close to my heart and things which have affected me one way or the other.....my thoughts,my desires,my aspirations,my fears my gods and my demons---you will find all of them here....I invite you to go through them and get a glimpse of my innermost feelings....................

Tuesday, April 17, 2012

बेनाम प्यार...

pyar ko koi bhi naam dena kya zaroori hai/ kya pyar ka ehsaas bhar hi kaafi nahin? pyar ke ehsaas se aatma tript aur mann bhaav-vibhor ho jaata hai/ khushkismat hain jinhein pyar ka ehsaas huya/ baaki to sab murda hain/ pyar huya to jeene ka ehsaas huya/ nahin mil paaye tum to kya/ tumse pyar is shart par nahin kiya tha/ ki tum bhi chaho mujhe/ maine tumhein chaha kyonki tumhein chahna mera naseeb tha/ tumne jo nahin kaha/ tumhaari khaamoshi ne keh diya/ tumhaare shabdon ki zubaan nahin chahiye thi/ bas tumhaare hone ka ehasaas hi kaafi tha/ mere prem ke liye..........
प्यार को कोई भी नाम देना क्या ज़रूरी है?
क्या प्यार का एहसास भर ही काफी नहीं?
प्यार के एहसास से आत्मा तृप्त और मन भाव-विभोर हो जाता है
खुशकिस्मत हैं जिन्हें प्यार का एहसास हुआ
बाकी तो सब मुर्दा हैं
प्यार हुआ तो जीने का एहसास हुआ
नहीं मिल पाए तुम तो क्या
तुमसे प्यार इस शर्त पर नहीं किया था
कि तुम भी चाहो मुझे
मैंने तुम्हें चाहा क्योंकि तुम्हें चाहना मेरा नसीब था
तुमने जो नहीं कहा
तुम्हारी खामोशी ने कह दिया
तुम्हारे शब्दों की जुबां नहीं चाहिए थी
बस तुम्हारे होने का एहसास ही काफी था
मेरे प्रेम के लिए.... April 3, 2012 at 8.22 P.M.

3 comments:

  1. बस तुम्हारे होने का एहसास ही काफी था
    मेरे प्रेम के लिए.
    बहुत खूब.............

    ReplyDelete
  2. shukriya यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) and दिलबाग विर्क...

    ReplyDelete